घर की कई समस्‍याओं का एक हल है गंगाजल  

हम सभी को अपने जीवन में अक्‍सर उतार-चढ़ाव देखने पड़ते हैं, मगर कई बार तमाम कोशिशों के बावजूद किसी भी समस्‍या का हल नहीं निकल पाता। हालांकि हम सभी की नजर घर में ही मौजूद उस एक पवित्र चीज पर नहीं जाती जिसे कई समस्‍याओं का एकमात्र हल माना गया है। जी हां, बात कर रहे हैं गंगाजल की जिसका पूजा समेत कई धार्मिक कार्यों में इस्‍तेमाल किया जाता है। अब ये तो आपने सुना ही होगा कि गंगा के पानी में स्‍नान करने से कई पापों से मुक्ति मिल जाती है, वैज्ञानिकों ने भी माना है कि इसमें कई प्रकार के औषधिय गुण पाए जाते हैं। मगर शायद आपको ये नहीं पता होगा कि गंगा के पानी या गंगाजल को वास्‍तु से भी जोड़ा गया है। इसके अनुसार गंगाजल के इस्‍तेमाल से कई परिशानियां छूमंतर हो जाती हैं। तो जिन्‍हें वास्‍तु में विश्‍वास है वो ये उपाय अपना सकते हैं, गंगाजल इन परेशानियों से मुक्ति दिला सकता है-
घर का वास्‍तुदोष करें दू
यदि घर में किसी भी प्रकार का कोई वास्तु दोष हो तो नियमित रूप से घर में गंगा जल का छिड़काव करें। कहते हैं ऐसा करने से सभी तरह के वास्तु दोष समाप्त होते हैं और घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
डरावने सपनों से मिलेगी मुक्ति
अगर किसी व्‍यक्ति को रात में डरावने सपने परेशान करते हैं तो इस स्थिति में सोने से पहले बिस्तर पर गंगाजल का छिड़काव किया जाना चाहिए। ऐसा करने से डरावने सपने तंग नहीं करेंगे।
बनी रहेगी सुख-समृद्धि
गंगाजल को हमेशा घर में रखने से सुख और समृद्धि बनी रहती है। इसीलिए घर में एक बर्तन में गंगाजल भरकर रखा जा सकता है, इस बर्तन को आप किचन या पूजाघर में रख सकते हैं।
भगवान शिव को करें खुश
कहते हैं गंगाजल चढ़ाने से भगवान शिव को बेहद प्रसन्न होते हैं जिससे व्‍यक्ति को शुभ-लाभ व मोक्ष दोनों ही मिलते हैं। इसलिए भगवान शिव के भक्‍तों के लिए तो ये अचूक उपाय साबित हो सकता है।
धन प्राप्ति के बनते हैं योग
ज्योतिष के अनुसार भगवान शिव को बिल्वपत्र कमल और गंगा जल चढ़ाने से धन प्राप्ति के योग बनने लगते हैं और ऐसा कौन होगा जो ये नहीं चाहेगा।
कर्ज से भी दिला सकता है मुक्ति
कर्ज अधिक हो गया है या घर में बहुत परेशानियां है तो गंगाजल को पीतल की बोतल में भर उसे अपने कमरे के उत्तर पूर्व दिशा में रखने से आपकी समस्या ख़त्म हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *